Fatima Sheikh (फातिमा शेख) एक समाज सुधारक का जीवन परिचय

You are currently viewing Fatima Sheikh (फातिमा शेख) एक समाज सुधारक का जीवन परिचय

फातिमा शेख जीवनी हिंदी में – जन्म तिथि, जयंती, समाज सुधारक, शिक्षका तथा और भी ( Fatima Sheikh Biography in Hindi – Date of Birth, Jayanti, Social Reformer, Teacher and many more )

फातिमा शेख कौन है? (Who is Fatima Sheikh)

फातिमा शेख एक भारतीय शिक्षिका महिला और समाज सुधारक महिला थी, जिनका जन्म 9 जनवरी 1831 को महाराष्ट्र के पुणे शहर में हुआ था। यह ज्योतिबा फुले और सावित्रीबाई फुले की सहयोगी थी, जिन्होंने दलित मुस्लिम महिलाओं और बच्चों को शिक्षित करने का प्रयास किया। यही नहीं फातिमा शेख और सावित्रीबाई फुले के बीच घनिष्ठ संबंध होने के चलते दलित समुदाय और उत्पीड़ित जातियों के लिए शिक्षा देने के साथ-साथ 1848 में लड़कियों और महिलाओं के लिए भारत में पहला स्कूल के स्थापना की है।

Fatima Sheikh Biography in hindi

question (प्रश्न) answer (उत्तर)
name/नाम फातिमा शेख
dOB/जन्म तिथि9 जनवरी 1831 (पुणे, महाराष्ट्र)
Jayanti/जयंती191वीं (2022)
nationality/राष्ट्रीयता भारतीय
Fatima Sheikh

फातिमा शेख एक समाज सुधारक –

महाराष्ट्र के पुणे शहर में हुआ जन्म फातिमा शेख एक मुस्लिम परिवार में से थी, अपने जीवन में कई समस्याओं को पार करते हुए अपने कार्य में जुटी रही उन्होंने सावित्रीबाई फुले के साथ लोगों को शिक्षित करने का निर्णय लिया ताकि आने वाले भविष्य में लोग पढ़े लिखे समाज का विकास करें। अपने कार्य में मगन होते हुए फातिमा शेख और सावित्री फुले ने 1848 में लड़कियों के लिए देश का पहला स्कूल शुरू किया जिसका नाम उन्होंने स्वदेशी पुस्तकालय रखा। कई समाज के कुछ वर्ग इस कार्य कार्य के खिलाफ थे लेकिन लोगों को शिक्षित करने का संकल्प लिया और तब उन्होंने लोगों के घर घर जाकर हर लोगों को शिक्षा का महत्व सिखाया और यह बताया कि आने वाले समय में शिक्षा का क्या महत्व होगा।

कई बच्चों का जीवन उजागर करने के साथ-साथ फातिमा शेख ने कई समाज सुधारक कार्य किए। ज्योतिबा फुले और सावित्रीबाई फुले जब महिलाओं को शिक्षित करने का प्रयास कर रहे थे, तब कुछ कट्टरपंथियों द्वारा महिलाओं को शिक्षित करने की इस मुहिम को पसंद नहीं किया जिसके कारण ज्योतिबा फुले सावित्रीबाई फुले को घर से निकाल दिया गया लेकिन जब उन दोनों को घर से निकाल दिया गया तब फतिमा शेख ने न तो सिर्फ उनको घर में जगह दी बल्कि उनके इस मुहिम को पूरी तरह समर्थन करते हुए इस मुहिम में जुड़ गई ।

google ने भी किया सम्मान

बतादे की दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन गूगल ने फातिमा शेख के 191 वीं जयंती पर उनको एक खास सम्मान दिया। गूगल ने फातिमा शेख के 191 वीं जयंती पर गूगल डूडल देकर भारतीय संस्कृति और फातिमा शेख को याद किया।

see also – इन्हे भी पढ़े

नोट – हम इस पूरी बायोग्राफी का श्रेय फातिमा शेख को देते हैं। क्योकि यह पूरी जीवनी फातिमा शेख के जीवन पर आधारित है, हमने बस उनके जीवन पर प्रकाश डालने का एक छोटा सा प्रयास किया है। आपको यह आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताइयेगा और उम्मीद करते है आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करेंगे.

This Post Has 2 Comments

  1. UZAIR

    share kasie kare isko??

    1. mr.rathor

      नीचे दिए गए सोशल प्लगिन पर क्लिक कर आप पोस्ट को शेयर कर सकते है।

Leave a Reply